शनिवार, नवंबर 14, 2009

पते पलटने का मन-वीरेन्द्र जैन्

पते पलटने का मन
आम तौर पर पता निम्नानुसार लिखा जाता है
प्रति,
श्री राम भरोसे मिश्र
मकान नम्बर 420/3
बटोली नगर
किले के पीछे
झांसी (उ.प्र.)
पिन 403 404
मेरे हिसाब से सबसे पहले लिफाफा, छंटाई वाले जिस डाक कर्मी के हाथ आता है उसकी पहली ज़रूरत नगर का नाम जानने की होती है। उसके बाद वाले पोस्टमैन को कालोनी का नाम और फिर उसके बाद वाले को मकान का नम्बर और नाम की ज़रूरत होती है। तो फिर पता ऐसे क्यों नहीं लिखा जाता जैसे
पिन 403404
झांसी
किले के पीछे बटोली नगर
मकान नम्बर 420/3 राम भरोसे मिश्र्
यदि किसी को इस समबन्ध में कुछ कहना हो तो कृप्या बतायें।

1 टिप्पणी:

  1. कुछ देशों में भारत के विपरीत उल्टा पता लिखने का रिवाज़ है. मेरे पास साउथ कोरिया से आनेवाली डाक में पता उल्टा ही लिखा रहता था जैसे, पहले- देश का नाम, फिर सड़क/मोहल्ले का, फिर बिल्डिंग का, फिर पानेवालेका.

    उत्तर देंहटाएं