गुरुवार, फ़रवरी 11, 2010

वेलैंटाइन डे- कायरों, कामुकों और नपुंसकों के लिये नहीं

वेलैंटाइन डे- कायरों, कामुकों और नपुंसकों के लिये नहीं
वीरेन्द्र जैन
हर वर्ष की भांति एक बार फिर वेलैंटाइन डे आने वाला है और एक बार फिर कार्ड बेचने वाले कार्ड बेचेंगे, गुलदस्ते बेचने वाले गुल्दस्ते और फूल बेचेंगे, अखबार वेलैंटाइन सन्देश छापने के नाम पर विज्ञापनों का धन्धा करेंगे। एक बार फिर भारतीय संस्कृति को न समझने वाले किंतु उसके नाम पर धन्धा करने वाले भाजपा शासित राज्यों में अपनी गुंडा टोली लेकर निकलेंगे और युवा प्रेमी प्रेमिकाओं के मुँह पर कालिख मलेंगे और मारपीट करेंगे। व्यक्तिगत स्वतंत्रता की हत्या करने वाले इन गुन्डों की सुरक्षा भाजपा शासित राज्य की पुलिस करेगी। एक बार फिर कायर बुद्धिजीवी अपने अपने सुविधा घरों में बैठ कर अखबारों में बयान देंगे।
हर वर्ष की तरह यह सन्देश भी दिया जायेगा कि- संत वेलैंटाइन भारत के नहीं थे तो क्या प्रेम के सन्देश पर उनका कापी राइट हो गया, जबकि राधाकृष्ण की प्रेम कथाओं से लेकर कामसूत्र और खजुराहो जैसी मन्दिर की दीवारों पर अंकित मूर्तियाँ तो हमारी ही बपौती हैं। यदि नई आर्थिक नीति के वैश्वीकरण, उदारीकरण, और निजीकरण के प्रभाववश हम इस दिन को बसंत पंचमी, होली, या अन्य किसी हिन्दू त्योहार की जगह उस कलेंडर के हिसाब से मनाने लगते हैं जिसके अनुसार हमारे सारे कामकाज़ चल रहे हैं तो क्या प्रेम का अर्थ बदल जायेगा! सच तो यह है कि इस दिन मनाने से इसकी संकीर्णता दूर होकर यह जाति धर्म, भाषा और राष्ट्र तक की सीमाओं से मुक्त होता है और विश्वबन्धुत्व तक पहुँचता है। आज प्रत्येक मध्यम वर्गीय परिवार रंगीन टीवी, डीवीडी प्लेयर या सिनेमा हाल में जो फिल्में देख कर खुश होता है और सपरिवार ताली बजाता है उनमें से नब्बे प्रतिशत में प्रेम कहानी ही होती है। यह सन्देश रोज रोज हर घर में पहुँच रहा है किंतु उससे किसी को कोई शिकायत नहीं होती।

पर मेरा मानना है कि-
वेलैंटाइन डे पर इन प्रेमियों को पिटना ही चाहिये क्योंकि वेलैंटाइन डे कायरों कामुकों और नपुंसकों के लिये नहीं होता है। वे जिन फिल्मों को देख कर जीभ लपलपा लड़कियों के पीछे चक्कर लगाते हैं उनसे वे फैशन और अदायें तो सीखते हैं किंतु यह नहीं सीखते कि फिल्म का हीरो एक सुडौल देह का स्वाभिमानी पुरुष होता है और वह अपनी प्रेमिका की ओर उंगली उठाने वाले गुण्डों के हाथ पैर तोड़ देने में स्वयं को घायल करा लेने से लेकर जान की बाज़ी लगा देने में भी पीछे नहीं रहता। यह कैसा लिज़लिज़ा दृष्य होता है कि चन्द भगवा दुपट्टाधारियों के डर से ये तथाकथित प्रेमी या तो उस दिन बाहर ही नहीं निकलते या चुपचाप अपनी प्रेमिका का अपमान बर्दाश्त करते रहते हैं और पिटते हुये संघर्ष भी नहीं करते। ऐसे प्रेमी पिटने ही चाहिये।
दूसरी बात यह कि अगर कोई पुरुष प्रेमी प्रेम के अधिकार का पक्षधर है तो इसे यही अधिकार अपनी बहिनों को भी देना पड़ेगा, पर जो प्रेमी अपनी बहिनों को घरों में कैद करके यह अधिकार नहीं देना चाहते और स्वयं लेना चाहते हैं वे साधारण से लम्पट और कामुक हैं और उनका प्रेम किसी विचारपूर्ण निष्कर्ष का हिस्सा नहीं है। इस दोहरेपन के लिये भी वे पिटने के पात्र हैं।
जब भी समाज बदलता है तो पुराने समाज को नियंत्रित कर उसे अपने हित में बनाये रखने वाले लोग किसी भी परिवर्तन का विरोध करते हैं। वे एक संगठित संस्था का बल रखते हैं इसलिये इक्कों दुक्कों पर भारी पड़ते हैं। ये वेलंटाइन डे मनाने वाले स्वयं इतने अपराधबोध से ग्रस्त रहते हैं कि न तो वे अपना कोई संगठन ही बनाते हैं और ना ही अपने जैसों की मदद ही करते हैं। इसलिये ये पिटते हैं और हर वर्ष की भांति पिटते ही रहेंगे जब तक कि गुंडों को उन्हीं की भाषा में जबाब नहीं देते।
शायद इसी पिटने से कोई राह निकले!
वीरेन्द्र जैन
2/1 शालीमार स्टर्लिंग रायसेन रोड
अप्सरा टाकीज के पास भोपाल मप्र
फोन 9425674629

4 टिप्‍पणियां:

  1. यह कैसा लिज़लिज़ा दृष्य होता है कि चन्द भगवा दुपट्टाधारियों के डर से ये तथाकथित प्रेमी या तो उस दिन बाहर ही नहीं निकलते या चुपचाप अपनी प्रेमिका का अपमान बर्दाश्त करते रहते हैं और पिटते हुये संघर्ष भी नहीं करते। ऐसे प्रेमी पिटने ही चाहिये।nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. इससे पीटने वाले संगठनों का राजनितिक हित सधता है और कुछ नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत 'सही' सोच है। हम वैज्ञानिक, तार्किक एवं नवाचारी सोच में पश्चिम की बराबरी नहीं कर सकते तो क्यों नहीं उनकी 'पाशविक प्रवृत्तियों' की नकल करके कर लें। आपके 'क्रान्तिकारी' विचारों से मार्क्स दादा को बहुत शकुन मिलता होगा। वे अपने घनिष्ट मित्र की बीबी से ही 'प्यार' किया करते थे। निश्चित ही वे कायर नहीं थे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुनाद सिंह जी
    झूठ के पांव नहीं होते और आप जैसे झूठ बोलने वालों में शर्म नहीं होती।
    संघ परिवार का तो पूरा माडल ही आयातित है। सावरकर, मुंजे और आडवाणी तीनों की प्रिय किताब हिटलर की मीन काम्फ़ है। गणवेश में वेश हिटलर की सेना का और टोपी मुसोलिनी की। पूरी विचारधारा हिटलर से चुरायी हुई जिससे मिलने और सीखने मुंजे इटली गये थे। कायर वे हैं जो निहत्थों पर हमला करते हैं और जेल के भय से माफ़ियां मांगते हैं। सावरकर हों या बाजपेयी-- माफ़ी मांगने के मामले में ग़ज़ब का एक्य है। एक बार सरकार सख़्त हुई तो बाला साहब बाल सुलभ बन गये!!

    उत्तर देंहटाएं